Hindi Shayari, Mushkurana Janta he

Hindi Shayari, Mushkurana Janta he
Hindi Shayari, Mushkurana Janta he

सारा जहान उसी का है, जो मुस्कुराना जानता है,
रौशनी भी उसी की है, जो शमा जलाना जानता है,
हर जगह मंदिर मस्जिद और गुरुद्वारे हैं,
लेकिन ईश्वर तो उसी का है, जो सिर झुकाना जानता है!