Shayari In Hindi | Chalo! Thodhi Muskurahat batte hain..

चलो! थोड़ी मुस्कुराहट बाँटते है..
थोड़ा दुख तकलीफों को डाँटते है..
क्या पता ये साँसे चोर कब तक हैं?
क्या पता ‘जिन्दगी की चरखी’ में ड़ोर कब तक हैं?

Chalo! Thodhi Muskurahat batte hain..
Thodha dukh taklif ko daat te hain..
Kya pata ye saanse choor kab tak hain..
KYa pata Zindagi ki chargi me door kab tak hai!